Website in: हिन्दी | English

 

व्यवसाय/ट्रेड का चयन

  • आवेदक को व्यवसाय/ट्रेड का चुनाव अपनी शैक्षणिक योग्यता को ध्यान में रखकर करना चाहिये, एक आवेदन पत्र में अपनी पसन्द का कोई भी एक व्यवसाय लिखना अनिवार्य होगा।
  • व्यवसायिक प्रशिक्षण मेहनत का कार्य है, प्रशिक्षण अवधि के दौरान प्रषिक्षणार्थियों को कार्यशाला का रख-रखाव/सफाई रखना अनिवार्य होता है। अतः आवेदन पत्र भरने के पूर्व इस संबंध में आवेदक सोच-विचार कर निर्णय लें। व्यवसाय का आवंटन/पंजीयन होने के पश्चात् किसी भी प्रकार का संशोधन नहीं किया जावेगा।

    विवरण पत्रिका

    • संस्था में प्रवेश के लिये आवेदन पत्र का (विवरण पत्रिका सहित) मूल्य 200/-(दौ सौ रूपये) आवेदकों के लिए निर्धारित है। कोरियर/ डाक द्वारा मंगाये जाने पर निर्धारित कोरयर/डाक खर्च अलग से देय करना अनिवार्य होगा।
    • प्रवेश विवरणिका आवेदन प्रपत्र प्राप्त/जमा करने की निर्धारित तिथि 1 मई से 15 अगस्त तक
    • प्रवेश हेतु विलंब शुल्क सहित आवेदन प्रपत्र प्राप्त/जमा करने की तिथि शासन द्वारा निर्धारित समय अनुसार।

      प्रवेश सम्बंधित दिशा निर्देश

      • आवेदन फार्म के साथ निम्नलिखित प्रमाण पत्र संलग्न करना अनिवार्य है
        • राजपत्रित अधिकारी अथवा स्व प्रमाणिक हाईस्कूल दसवीं/हायर सेकेन्डरी बारहवीं परीक्षा उत्तीर्ण अंकसूची की मुल प्रति/छायाप्रति या समकक्ष उत्तीर्ण परीक्षा की छायाप्रति
        • चरित्र प्रमाण पत्र  एवं स्थानांतरण प्रमाण पत्र  की मूल प्रति।
        • आवेदक की स्वयं की 3 पासपोर्ट साइज फोटो, आवेदनकर्ता कृपया एक फोटो को आवेदन पत्र में चिपका देवे तथा अन्य दो फोटो विवरणिका  में दिये गये आवेदन फार्म के साथ संलग्न करें। दोनों फोटो के पीछे आवेदक का स्वयं का हस्ताक्षर अनिवार्य है।
        • म.प्र. मूल निवासी प्रमाण-पत्र छाया प्रति (जाति प्रमाण-पत्र छाया प्रति कक्षा दसवीं/बारहवीं की अंकसूची के अतिरिक्त तकनीकी अथवा अन्य उच्च शिक्षा प्राप्त अंक सूची की छाया प्रति
        • आवेदक/पालक का पहचान पत्र , आधार कार्ड, राशन कार्ड की छाया प्रति
        • अनियमित शैक्षणिक सत्र  होने पर नोटरी द्वारा प्रमाणित शपथ पत्र  जमा करना अनिवार्य होगा।
      • भारतीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान/स्ववित्तीय संस्थान है अर्थात केन्द्र/राज्य द्वारा संस्था को शासन द्वारा किसी प्रकार का अनुदान प्राप्त नहीं हो रहा है। अतः प्रशिक्षणार्थियों से पशिक्षण हेतु शैक्षणिक शुल्क लिया जाता है।
      • इस विवरण पत्रिका के साथ प्रवेश के लिए एक आवेदन पत्र संलग्न है जिस पर संस्थान/केन्द्र लिपिक द्वारा आवेदक के नाम से ही दिया जावेगा। आवेदन पत्र में किसी प्रकार की कांट-छांट पाई गई तो, आवेदन पत्र निरस्त कर दिया जावेगा। यदि आवेदन पत्र में इस पकार की पुनरावृत्ति होती है, तो आवेदन पत्र जमा करने के पूर्व संस्था प्रभारी/लिपिक द्वारा जांच कर आवेदन फार्म कार्यालय में जमा करें।
      • प्रत्येक व्यवसाय में प्रवेश हेतु अलग-अलग फार्म भरना होगा।
      • आवेदन पत्र को भरने के पूर्व विवरणिका का ठीक से अध्ययन करने के पश्चात् निर्धारित प्रमाण पत्रों की सत्य प्रतिलिपियाँ संलग्न करें तथा आवेदन पत्र में निर्धारित स्थान पर उसका उल्लेख करें।
      • अंकसूची तथा अन्य प्रमाण पत्रों की मूल प्रति अपने पास स्वयं ही रखें तथा भर्ती के समय मांगे जाने पर जांच हेतु प्रस्तुत करें। चयन के पश्चात् आवेदक को हाईस्कूल/हायर सेकेण्डरी उत्तीर्ण परीक्षा की मूल अंक सूची संस्था में जमा करना अनिवार्य होगा, जिसे प्रशिक्षण समाप्ति के पष्चात् ही आवेदक को वापस की जावेगी।
      • आवेदन पत्र तथा सहपत्रों में स्वयं की जानकारी तथा पता इत्यादि सुस्पष्ट भरें। गलत जानकारी की जिम्मेदारी स्वयं आवेदक की होगी।
      • आवेदन पत्र जमा करके उसकी प्राप्ति रसीद जरूर प्राप्त करें, यदि आवेदन पत्र में कोई काँट-छाँट होती है तो उसे जमा करने के पूर्व संस्थान/केन्द्र के लिपिक के हस्ताक्षर सील सहित करवा लेवें तब जमा करें। आवेदन पत्र निर्देषानुसार पूर्ण न होने पर निरस्त कर दिया जावेगा एवं उसकी सूचना आवेदन कर्ता को नहीं दी जावेगी।

      10 प्रवेश सूचना

      • लिखित परीक्षा अथवा साक्षात्कार के आधार पर प्रशिक्षण हेतु चयन किया जावेगा।
      • चयन सूची व्यवसाय वार बनाई जावेगी।
      • चयन सूची के आधार पर, प्रवेश की सूचना भेजने हेतु प्राचार्य/अधीक्षक पूर्ण रूप से अधिकृत हैं।
      • चयन समिति द्वारा प्रवेष सूची की जांच समय-समय पर की जावेगी।
      • निर्धारित तिथियों के पश्चात् अपूर्ण अथवा निर्धारित भर्ती नियमों के विरूद्ध प्राप्त आवेदन पत्रों को निरस्त कर दिया जावेगा। जिसकी कोई सूचना आवेदक को नहीं दी जावेगी।

      11 प्रवेष प्रवेश / aDMISSION INFORMATION

      • चयनित किये गये आवेदकों की भर्ती की सूचना डाक अथवा मोबाइल, दूरभाष द्वारा आवेदन पत्र में दिये गये पते के अनुसार भेजी जावेगी।
      • प्रवेश हेतु उपस्थित होने के लिए आवेदन को किसी प्रकार का यात्रा व्यय भुगतान नहीं किया जावेगा।
      • प्रवेश के समय आवेदक को भेजी गई प्रवेष सूचना के साथ, निम्नलिखित प्रमाण-पत्रों की मूल प्रतियां, जाँच के लिए प्रस्तुत करना अनिवार्य है। इसके अभाव में प्रवेश दिया जाना संभव नहीं होगा -
        • उच्चतर माध्यमिक परीक्षा कक्षा आठवीं उत्तीर्ण को अंकसूची।
        • हाई स्कूल परीक्षा कक्षा दसवीं/हायर सेकेण्डरी परीक्षा कक्षा बारहवीं अथवा उच्च शैक्षणिक योग्यता उत्तीर्ण की अंकसूची  ।
        • अंतिम शैक्षणिक संस्था का मूल स्थानांतरण प्रमाण  एवं चरित्र प्रमाण पत्र  ।
        • मूल निवास प्रमाण पत्र (जिलाध्यक्ष कार्यालय से शासन द्वारा निर्धारित प्रपत्र) जमा किया जाना अनिवार्य है।
      • प्रवेश संबंधी व अन्य जानकारी दूरभाष पर देना संभव नहीं है। प्रशिक्षार्थी/पालक/पिता स्वयं कार्यालय में आकर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
      टीप- आवश्यकतानुसार उपरोक्त किसी भी प्रमाण-पत्र के अभाव में या प्रदाय प्रमाण-पत्र इत्यादि संस्था के प्रमुख द्वारा मान्य न होने पर, प्रवेश संभव नहीं होगा।

      12 प्रशिक्षण शुल्क / FEES

      • प्रत्येक प्रशिक्षार्थी को भर्ती के समय प्रवेष शुल्क के अतिरिक्त 1000/- (एक हजार रूपये मात्र) कोशन मनी के रूप में जमा करना अनिवार्य होगा।
      • प्रवेश पश्चात् प्रत्येक प्रशिक्षार्थी को मासिक शुल्क रूपये 1200/- (एक हजार दो सौ रूपये) देय होगा। यह शुल्क प्रतिमाह की 10 तारीख तक जमा करना अनिवार्य है अन्यथा 15 तारीख से अर्थदंड के रूप में वसूली की जावेगी।
      • निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थाओं। केन्द्रों को शासन द्वारा किसी भी प्रकार का अनुदान वित्तीय सहायता नहीं दी जाती है। अतः प्रायोगिक प्रशिक्षण कार्य हेतु प्रवेश पश्चात् प्रशिक्षणार्थी को प्रायोगिक शुल्क अर्द्ध वार्षिक/वार्षिक रूप में जमा करना अनिवार्य होगा। जिसका निर्धारण संचालन समिति द्वारा तय किया जावेगा। नियत समय पर शुल्क का भुगतान न होने पर प्रशिक्षार्थी का नाम संस्थान/केन्द्र से निरस्त कर दिया जावेगा।
      • जमानत/कोशनमनी राशि प्रशिक्षण पूर्ण होने के बाद लौटाई जा सकेगी, यदि प्रशिक्षार्थी जान बूझकरर औजार, उपकरण एवं मशीनों को गुम करता है या टूट-फूट करता है तथा उसके लिये जिम्मेदार पाया जाता है, अथवा प्रशिक्षण बीच में ही छोड़ देता है तो वह राशि जब्त कर ली जावेगी।
      • एक व्यव्साय में प्रवेश पश्चात् यदि उसी सत्र की भर्ती के दौरान आवेदक दूसरे व्यवसाय में प्रवेष लेता है तो उसे निर्धारित कोशनमनी पुनः जमा करनी होगी एवम् पूर्व व्यवसाय के लिए जमा राशि  स्वमेव जप्त मानी जावेगी।
      • गुम हुए या टूट-फूट वाले सामग्री के मूल्य की पूर्ति यदि इस राषि (कासन मनी) से नहीं होती है, तो शेष राषि अलग से वसूल की जावेगी।
      • प्रशिक्षण सत्र समाप्ति के छःमाह पश्चात् ही शासकीय नियामानुसार (कासन मनी) की राशि देय होगी। प्रशिक्षण बीच में छोड़ने पर (कासन मनी) जब्त कर ली जावेगी।
      • सुरक्षा निधि (कासन मनी) की वापसी प्रशिक्षण सत्र में नहीं की जाती है। प्रवेष के पश्चात् बीच सत्र में संस्थान/केन्द्र छोड़ने पर प्रशिक्षणार्थी को जमा शुल्क की राशि  का भुगतान नहीं किया जावेगा।

      13 परिवीक्षा

      प्रशिक्षण की अवधि में संस्थान/केन्द्र प्रमुख द्वारा नियमों का पालन, प्रशिक्षार्थियों को करना अनिवार्य है-

      • मशीनों पर वास्तविक रूप से कार्य करते हुए उनके विषय में रचनात्मक विचार करने की योग्यता एवं कार्य करने की इच्छा ऐसी बातें हैं जो प्रशिक्षण के लिए आपेक्षित है। अतः प्रशिक्षणार्थियों को प्रवेश की तिथि से एक माह के लिए परिवीक्षाधीन रखा जावेगा।
      • इस अवधि में प्रवेष अस्थाई होगा एवं जिन प्रशिक्षणार्थियों का प्रशिक्षण के प्रति रूझान नहीं पाया जावेगा, उन्हें बिना पूव सूचना के संस्थान केन्द्र से मुक्त किया जावेगा।

      14 पुस्तकालय/ LIBRARY

      • औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान/केन्द्र में पुस्ताकालय की सुविधा है। जिसमें व्यावसायिक क्षेत्र में ज्ञान वृद्धि की जा सकती है।
      • भारत सरकार द्वारा निर्धारित आई.एस.एस. की पुस्तकों की श्रृंखला भी उपलब्ध है।
      • पुस्तकालय से एक समय में एक सप्ताह के लिए 2 पुस्तक प्राप्त की जा सकती हैं।
      • पुस्तकालय की पुस्तकों में लिखना रेखांकित करना पृष्ठ निकालना या किसी प्रकार की क्षति पहुंचाना दण्डनीय है।

      15 अनुसाशन / RULES

      संस्थान/केन्द्र के प्रशिक्षणार्थियों द्वारा अनुशासन भंग किये जाने या दुराचार किये जाने पर उनके विरूद्ध प्राचार्य द्वारा अनुशासनात्मक कार्यवाही की जा सकेगी जो कि-

      • निलंबन,
      • निष्कासन,
      • परीक्षा में सम्मिलित होने से रोकना इत्यादि हो सकती हैं।

      16 निष्कासन

      प्रशिक्षण अवधि में निम्न किसी भी कारण से संस्थान/केन्द्र के प्रशिक्षणार्थियों को नाम उपस्थिति रजिस्टर से काटने एवं प्रवेश निरस्त करने तथा संस्थान/केन्द्र से मुक्त करने का अधिकार संस्थान/केन्द्र प्रमुख के पास सुरक्षित है।

      • प्रवेश के समय अथवा उसके पश्चात् भी चाही गई आवश्यक जानकारी प्रमाण पत्र इत्यादि प्रस्तुत न कर सकने पर निष्कासन संभव है।
      • प्रस्तुत जानकारी/प्रमाण-पत्र इत्यादि संस्थान/केन्द्र प्रशिक्षण के दौरान गलत/भ्रामक पाये जाने पर (आवश्यकतानुसार ) प्रकरणों को उचित कार्यवाही हेतु भेजा सकता है।
      • संस्थान/केन्द्र के कार्यशाला, छात्रावास तथा पठन-पाठन में लापरवाही अनुशासनहीनता या दुराचार इत्यादि करने पर निष्कासन/निलंबन संभव है।
      • प्रशिक्षण अवधि में संस्थान/केन्द्र में निर्धारित यूनिफार्म में न आने पर शैक्षणिक/प्रयोगिक शुल्क निर्धारित समय सीमा पर जमा न किए जाने पर निष्कासन/निलंबन संभव है।
      • प्रशिक्षणार्थियों की उपस्थिति अथवा प्रगति असंतोषजनक होने पर अथवा किसी भी उपयुक्त कारण से व्यावसायिक प्रशिक्षण हेतु अयोग्य पाये जाने पर निष्कासन/निलंबन संभव है।
      • आवेदक की भर्ती के पूर्व अथवा प्रशिक्षण की अवधि में पुलिस तथा न्यायालय में किसी प्रकरण से संबंधित होना पाये जाने पर निष्कासन/निलंबन कर प्रवेष निरस्त किया जावेगा।

      17 अपील

      प्रवेश निष्कासन/निलंबन इत्यादि संबंधी शिकायत/अपील प्राचार्य एवं अध्यक्ष संचालन समिति को एक माह के अंदर प्रस्तुत करें। तत्पश्चत इस विषय पर कार्यकारिणी द्वारा विचार किया जावेगा। प्रशिक्षणार्थी/अपीलकर्ता के लिए प्राचार्य व अध्यक्ष चयन समिति का निर्णय अंतिम होगा। 18 परीक्षा संबंधी जानकारी/सूचना

      • केंद्रीय शासन के अंतर्गत महानिर्देशालय रोजगार एवं प्रशिक्षण नई दिल्ली भारत सरकार द्वारा आदेशित पत्र क्रमांक 19.4द.2011. दिनांक 14-03-2013 द्वारा निर्देशित अखिल भारतीय व्यवसायिक परीक्षा सत्र अगस्त 2013 से सेमेस्टर पेटर्न/सिस्टम के द्वारा सम्पन्न कराई जावेगी। अखिल भारतीय व्यवसायिक परीक्षा, अखिल भारतीय व्यवसायिक प्रशिक्षण परिषद् नई दिल्ली भारत सरकार के अंतर्गत संपादित की जावेंगी| प्रत्येक सेमेस्टर की अवधि 6 माह निर्धारित की गई है। प्रत्येक सेमेस्टर को चार भागों में विभाजित किया गया है। सभी विषयों पाठयक्रम सेमेस्टर के अनुसार प्रतिपादित किया जावेगा। प्रत्येक सेमेस्टर की समाप्तिह के पश्चात् जनवरी/जुलाई माह में महानिदेशालय रोजगार एवं प्रशिक्षण  श्रम मंत्रालय, नई दिल्ली व अखिल भारतीय व्यावसायिक दस्तकारी प्रशिक्षण परिषद  नई दिल्ली के आदेशानुसार मुख्य परीक्षा आयोजित की जाती है, जिसे अखिल भारतीय व्यावसायिक परीक्षा के नाम से जाना जाता है। सेमेस्टर परीक्षाओं में अनुत्तीर्ण होने पर अधिकतम 5 अवसर प्रदान किये जाते है।
      • यह परीक्षा राष्ट्रीय व्यावसायिक प्रशिक्षण परिषद, नई दिल्ली तथा स्टेट बोर्ड आफ एक्जामिनेशन म.प्र. शासन द्वारा संयुक्त रूप से ली जाती है।
      • उत्तीर्ण प्रशिक्षणार्थियों को राष्ट्रीय प्रमाण-पत्र दिया जाता है, जिसकी मान्यता पूरे देश/प्रदेश के शासकीय/अर्द्धशासकीय, निगम, विभाग उद्योग समूहों एवं निजी कल कारखानों व कम्पनियों में है।
      • प्रत्येक इंजीनियरिंग व्यवसाय में प्रायोगिक परीक्षा के अतिरिक्त ट्रेड थ्योरी, इंजीनियरिंग ड्राइंग, वर्कशॉप केलकुलेशन एवं साइंस तथा इम्लाविलिटी स्कील सहित कम्प्यूटर विषयों की परीक्षायें भी होती हैं, जिनमें अलग-अलग उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।
      • नियमित प्रशिक्षणार्थियों को राष्ट्रीय व्यावसायिक परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए न्यूनतम 80 प्रतिषत वार्षिक उपस्थिति अनिवार्य है।
      • प्रायोगिक परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए न्यूनतम 60 प्रतिषत तथा अन्य विषयों में 40 प्रतिषत अंक प्राप्त करना अनिवार्य है।
      • मुख्य/अंतिम वर्ष की परीक्षा पश्चात् अनुतीर्ण प्रशिक्षणार्थियों को परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिये शासन द्वारा निर्धारित 5 अवसरों का ही प्रावधान है।
      • राष्ट्रीय व्यावसायिक परीक्षा में सम्मिलित होने वाले प्रषिक्षणार्थियों को सचिव बोर्ड आफ एक्जामिनेशन द्वारा निर्धारित परीक्षा शुल्क एवं रजिस्ट्रेशन शुल्क जमा करना होगा।
      • प्रत्येक सेमेस्टर की परीक्षा के उपरांत परीक्षार्थियों को अपना नोडयूज बकाया राशि जमा करना अनिवार्य है तत्पश्चात अखिल भारतीय व्यावसायिक परीक्षा में बैठने की अनुमति प्रदान की जायेगी।

      19 विशेष / SPACIAL

      प्राचार्य को यह अधिकार है कि किसी भी प्रशिक्षणार्थी के आवेदन पत्र को जांच के पश्चात् त्रुटि पाये जाने पर निरस्त किया जा सकता है तथा इस विषय में कानूनी कार्यवाही का अधिकार किसी भी व्यक्ति को नहीं रहेगा।
      आवेदक द्वारा आवेदन पत्र के साथ संलग्न दस्तावेज/प्रमाण पत्र जाली/नकली पायें जाने पर संस्था प्रमुख द्वारा उचित कानूनी कार्यवाही की जावेगी। जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी आवेदक/अभिभावक की संयुक्त रूप से मानी जावेगी।

      20 अन्य / OTHER

      अभिभावक/पालक से निवेदन है कि आवेदक के चयन पश्चात् उत्तरोत्तर शैक्षणिक विकास की जानकारी प्राचार्य कार्यालय से दूरभाष अथवा स्वयं उपस्थित होकर प्राप्त करें। स्थायी पता/दूरभाष/मोबाईल नंबर परिवर्तित होने पर उसकी लिखित सूचना कार्यालय में देना अनिवार्य होगी। प्रवेषित प्रषिक्षणार्थी यदि किसी कारणावश  संस्था से अपना प्रवेष निरस्त कराना चाहता है तो उन्हें संपूर्ण सत्र (द्वि-वर्षीय प्रशिक्षण अवधि) के समस्त शुल्कों भुगतान करना अनिवार्य होगा।