Website in: हिन्दी | English

 

प्रस्तावना / Introduction

आधुनिक युग में तकनीकी शिक्षा का  महत्व अहम है। भारत शासन की 'शिल्पकार प्रशिक्षण योजना (National Craftman Training) एवं कौशल विकास कार्यक्रम के अन्तर्गत तकनीकी एवं गैर तकनीकी व्यवसायों का प्रशिक्षण देश / प्रदेश की विभिन्न शासकीय / अशासकीय व निजी औद्योगिक  प्रशिक्षण संस्थाओं / केन्द्रों में दिया जाता है। जिससे देश एवं प्रदेश के उद्योगों में लगने वाले कुशल प्रशिक्षित तकनीशियनों की पूर्ति की जा सके अथवा वे स्वयं के लघु उद्योग स्वरोजगार स्थापित कर सकें। जिससे आज के युग में बढ़ती बेरोजगारी की समस्या के निदान हेतु वे स्वावलंबी बन रोजगार अथवा स्वयं का रोजगार स्थापित कर समाज के अन्य बेरोजगार युवक-युवतियों को रोजगार प्रदान कर सकें। वर्तमान में शासन द्वारा नये दिशा निर्देशानुसार सेमेस्टर पद्धति के तहत व्यवसायिक तकनीकी प्रशिक्षण दिया जाता है।

केन्द्रीय प्रदेश  शासन द्वारा 'शिल्पकार प्रशिक्षण योजना के अन्तर्गत स्थायी मान्यता के पश्च्यात सन 1991 में प्रतिभा शिक्षा समिति, जबलपुर की कार्यकारिणी समिति द्वारा महानिदेशालय रोजगार एवं प्रशिक्षण (D.G.E.&.T.) श्रम मंत्रालय न्यू दिल्ली व अखिल भारतीय व्यावसायिक प्रशिक्षण परिषद (N.C.V.T.) न्यू दिल्ली द्वारा संचालित द्विवर्षीय इलेक्ट्रीशियन  (Electrician) व फिटर (Fitter) इंजीनियरिंग व्यावसायिक पाठयक्रमों का विधिवत संचालन जीवन बीमा निगम (L.I.C.) मुख्य शाखा मदन महल, राष्ट्रीय राजमार्ग क्र.7 जबलपुर के समीप स्थित स्वयं के भवन में प्रारंभ किया गया।

भारतीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में निकट भविष्य में कम्प्यूटर, इलेक्ट्रानिक्स, चिकित्सा, पैरा मेडिकल व कृषि पर आधारित यांत्रिकी व्यवसायों के परंपरागत पाठयक्रमों के साथ नई  उभरती तकनीकी शिक्षा के संचालन की दिशा में संस्थान द्वारा विधिवत प्रयास किये जा रहे हैं। प्रदेश  के इस प्रतिष्ठित शिक्षा संस्थान केन्द्र ने प्रारम्भ से ही तकनीकी शिक्षा व कौशल विकास में अपनी अलग पहचान स्थापित की है जिसके परिणाम स्वरूप शासन द्वारा शहरी ग्रामीण शिक्षित बेरोजगारों के तकनीकी बौद्धिक विकास हेतु स्वरोगारोन्मुखी कार्यक्रम के अंतर्गत शिल्पकार प्रशिक्षण योजना, नेहरु रोजगार योजना, श्रमिक शिक्षा बोर्ड, आवास गृह व आवास अन्नयन योजना तथा स्वर्ण जयंती रोजगार योजना के अंतर्गत विभिन्न व्यवसायों जैसे - बिजली तार मिस्त्री (वायर मैन), मोटर वाइंडर, विद्धुत पंप सुधारक, घरेलू विधुत उपकरणों की मरम्मत व सुधार, प्लम्बर, कारपेन्टर, बेल्डर (विद्धुत व गैस), लौह-अलौह निर्माण, हैण्डपंप मैकेनिक, सीट मेटल मिस्त्री, के साथ- साथ कम्प्यूटर कार्य इत्यादि अनेक व्यवसायों में प्रशिक्षण हेतु संस्थान / केन्द्र का चयन किया जाता रहा हैं।



भोगोलिक स्थिति / Location

मध्यप्रदेश के केन्द्र बिन्दु जबलपुर स्थित भारतीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान / केन्द्र, शारदा चौक (नागपुर रोड) सिम्पलेक्स कंपनी के पास, मदन महल जबलपुर, वीरांगना रानी दुर्गावती के ऐतिहासिक किले के निकट स्थित है। जबलपुर रेल्वे स्टेशन व मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय के पश्चिम दिशा में 4 किलोमिटर, बस स्टैण्ड जबलपुर से 3 किलोमिटर व मदन महल रेल्वे स्टेशन से 2 किलोमिटर की दूरी पर राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 7 जबलपुर - नागपुर रोड भारतीय जीवन बीमा निगम (एल आई सी) मुख्य शाखा के पास स्थित संस्थान / केन्द्र परिसर में आटो / मेट्रो बस द्वारा संस्थान / केन्द्र परिसर में पहूँचा जा सकता है। संस्थान / केन्द्र के निकट ही शासकीय नेताजी सुभाष चन्द्र बोस आयुर्विज्ञान महाविद्यालय चिकित्सालय, तथा तक्षशिला अभियांत्रिकी महाविद्यालय स्थापित है। शास.यांत्रिकी महाविद्यालय एवं शहर में स्थित  अन्य कल कारखानों तकनीकी संस्थानों में तकनीकी शैक्षणिक भ्रमण आयोजित कर ज्ञानवर्धक जानकारी उपलब्ध करवाई जाती है।



संस्थान में उपलब्ध शैक्षणिक सुविधायें व अन्य जानकारियाँ / Other Information

संस्थान केन्द्र में विभिन्न व्यवसायों में प्रशिक्षण के अंतर्गत अत्याधुनिक उपकरणों से सुजज्जित प्रयोशाला / कार्यशाला के साथ प्रशिक्षणार्थियों के प्रशिक्षण संबंधी समस्त उपकरणों के रखने की अलग-अलग व्यवस्था है। समय-समय पर प्रशिक्षणार्थियों को सम्बंधित व्यवसायों के अतिरिक्त कम्प्यूटर व इलेक्ट्रानिक्स में अध्ययन के अतिरिक्त विभिन्न शासकीय - अशासकीय महाविद्यालयों  के तकनीशियनों  व प्राध्यापकों द्वारा अध्यापन व शोध की व्यवस्था की जाती है।



बैंकिंग व पोस्टल सुविधा / Banking & Postal Facilities

संस्थान केन्द्र के समीप भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC)  मुख्य शाखा परिसर में सिथत बैंक आफ इंडिया मदन महल शाखा व पोस्ट आफिस में बैंकिग व पत्राचार की सुविधा उपलब्ध है। जहाँ पर प्रशिक्षणार्थी अपना खाता खोलकर राशि का आदान-प्रदान कर सकते हैं। संस्थान के समीप बैंक आफ इंडिया, यूनियन बैंक, स्टेट बैंक के एटीएम सुविधा भी उपलब्ध है।



औद्योगिक शैक्षणिक भ्रमण / Indutrial Training Visit

शासकीय नियमानुसार प्रशिक्षाणार्थियों को अध्ययन व शोध कार्य हेतु प्रथम व अंतिम वर्ष में नजदीकी उद्धोगों समूह व राजकीय केन्द्रीय कार्यशालाओं में अधिकतम एक सप्ताह के औधेगिक भ्रमण की व्यवस्था की जाती है।



खेलकूद / Sports

संस्थान केन्द्र द्वारा उपलब्ध मैदानी (आउटडोर) भीतरी (इनडोर) क्रीड़ा हेतु पर्याप्त सुविधायें उपलब्ध कराइ गई हैं। संस्थान केन्द्र में प्रशिक्षित क्रीड़ा अधिकारी द्वारा खेलकूद के प्रोत्साहन पर पूरा ध्यान दिया जाता है। संस्थान केन्द्र के प्रशिक्षणार्थी समय-समय पर आयोजित नगर, जिला व प्रदेश  स्तरीय क्रीड़ा प्रतियोगिताओं में भाग लेकर संस्थान को गौरवानिवत करते रहे हैं।



कला व सांस्कृतिक गतिविधियाँ / Cultural Activities

संस्थान केन्द्र द्वारा 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस, 26 जनवरी गणतंत्र दिवस जैसे राष्ट्रीय पर्व व विश्वकर्मा  जयंती, शिक्षक दिवस के अवसर पर विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम, व्याख्यान माला एवं कला प्रदर्शनी  का आयोजन किया जाता है। जिसमें भाग लेने वाले प्रतियोगियों  को संस्थान द्वारा विशेष  पुरस्कारों द्वारा प्रोत्साहित किया जाता है। इसके अतिरिक्त समय-समय पर केन्द्र प्रदेश  की उप -संस्थाओं, श्रमिक शिक्षा बोर्ड, साक्षरता मिशन प्रौढ़ शिक्षा, राजीव गाँधी शिक्षा मिशन, उद्धिमितता विकास केन्द्र, नगर निगम, अदिम जाति कल्याण विभाग, उद्धोग  व वाणिज्य विभाग द्वारा आयोजित व्याख्यान मालाप्रदर्शनी जैसे शिक्षा मूलक कार्यक्रम आयोजित कर शिक्षाविदों व बुद्धिजीवियों द्वारा पुरस्कृत किया जाता है।



गणवेश / Uniform

संस्थान केन्द्र में प्रशिक्षणार्थियों को निर्धारित यूनिफार्म (गणवेश ) ( ग्रे शर्ट, ब्लैक फुल पेन्ट, काले रबर जूते व बेल्ट) में आना अनिवार्य है। संस्थानकेन्द्र द्वारा उक्त यनिफार्म हेतु न्यूनतम राशि  800-रू. निर्धारित की गयी है यदि प्रशिक्षणार्थी स्वयं यूनिफार्मगणवेश की व्यवस्था करते हैं तो उनसे यूनिफार्म (गणवेश)  संबंधी किसी भी प्रकार की राषि नहीं ली जावेगी।



उपलब्धियां / Achivments 

संस्थान (केन्द्र) में समस्त व्यवसायों से चयनित क्रिकेट टीम (टेनिस बाल) द्वारा वर्ष 1997 में दुर्ग (छत्तीसगढ़) में आयोजित राज्य स्तरीय क्रीड़ा प्रतियोगिता में द्वितीय स्थान व 1998 में राष्ट्रीय राज्य व्यावसायिक प्रशिक्षण परिषद द्वारा आयोजित दस्ताकारी परीक्षा में फिटर ट्रेड के छात्र कमल दीक्षित द्वारा 84 %  अंक प्राप्त कर सम्पूर्ण म.प्र. में प्रथम स्थान प्राप्त कर संस्थानको गौरवानिवत किया है। वर्ष 2002 में अखिल भारतीय व्यावसायिक परिक्षा में इलेकिट्रशियन व्यवसाय के प्रशिक्षणार्थी अभय कुमार शर्मा द्वारा सम्पूर्ण म.प्र. में प्रथम स्थान प्राप्त किया। इसके अतिरिक्त भारत हैवी इलेकिट्रकल्य, मारूती उद्धोग, ओरियंट पेपर मिल, रेल्वे, म.प्र. वि.मंडल, आर्डनेंस फैक्टरी, व्हीकल फैक्टरी, जिलेटिन शा वालेस उद्धोग समूह में संस्थान (केन्द्र) के प्रशिक्षार्थियों द्वारा अप्रेंटिस में विशेष स्थान प्राप्त कर सराहनीय कार्य       किये गये।



प्रशिक्षण संबंधी जानकारियाँ / About Training

  • भारतीय औधोगिक प्रशिक्षण संस्थानकेन्द्र शारदा चौक, सिम्पलेक्स कंपनी के पास, मदन महल, जबलपुर एक व्यावसायिक प्रशिक्षण केन्द्र है।जिसमें महानिदेशायल द्वारा रोजगार एवं प्रशिक्षण (D.G.E.&.T.) श्रम मंत्रालय नर्इ दिल्ली व अखिल भारतीय व्यावसायिक प्रशिक्षण परिषद (N.C.V.T.) नर्इ दिल्ली द्वारा संचालित द्विवर्षीय इलेक्ट्रीषियन (Electrician) व फिटर (Fitter) इंजीनियरिंग व्यावसायिक पाठयक्रमों का विधिवत संचालन जीवन बीमा निगम (L.I.C.) मुख्य शाखा मदन महल, राष्ट्रीय राजमार्ग क्र.7 जबलपुर के समीप सिथत स्वयं के भवन में प्रारंभ किया गया।
  • चयन प्रक्रिया के अन्तर्गत संस्थान (केन्द्र) में प्रशिक्षण हेतु स्थान 30: महिलाओं छात्राओं के लिए आरिक्षित हैं लेकिन महिला प्रशिक्षणार्थियों की अनुपलब्धता के कारण नियम पाबंदी में छूट दी जा सकती है।
  • प्रशिक्षण संस्थान (केन्द्र) में दूरभाष की सुविधा प्रदान की गई  है जो अधीक्षक कक्ष में उपलब्ध रहेगी। लेकिन इसका प्रयोग सिर्फ अतिआवश्यक  कार्य होने पर ही किया जा सकता है।
  • संस्थान (केन्द्र) में अनुशासनात्मक नियमों का पालन करना प्रत्येक प्रशिक्षणार्थी की जिम्मेदारी होगी। अनुशासनहीन पाये जाने पर प्रशिक्षणार्थी पर संस्थानकेन्द्र से निष्कासननिलंबन संबंधी कार्यवाही की जायेगी। संस्थानकेन्द्र से निष्कासनपरीक्षा में समिमलित होने से रोकने हेतु प्राचार्य व संस्थानकेन्द्र प्रबंध कार्यकारिणी समिति अधिकृत होगी।
  • प्रशिक्षण की अवधि में प्रतिदिन पांच घंटे प्रायोगिक, ढाई  घंटे सैद्धांतिक कक्षायें प्रशिक्षण कार्य हेतु संपादित की जाती है। शैक्षणिक विश्वविद्यालय की तरह इसमें ग्रीष्मकालीन-शीतकालीन अवकाश  अथवा कोई  लम्बी अवधि के अवकाश नहीं होते हैं।
  • प्रवेश लेने के बाद किसी प्रशिक्षणार्थी को किसी अन्य शैक्षणिक संस्था महाविद्यालय में प्रवेश  लेने की अथवा परीक्षा में नियमित छात्र के रूप में समिमलित होने की अनुमति नहीं दी जाती है। केन्द्र शासन द्वारा नये दिषा निर्देषों के अंतर्गत सेमेस्टर पद्धति के अनुसार प्रवेश दिया जावेगा।
  • प्रत्येक सेमेस्टर की अवधि 6 माह की होगी। प्रत्येक सेमेस्टर में 80 प्रतिशत से कम उपसिथति होने पर शासकीय नियमानुसार अखिल भारतीय व्यवसायिक परीक्षा में सम्मिलित  हाने की पात्रता नहीं होगी। प्रशिक्षण पूर्ण करने अर्थात समस्त सेमेस्टरों में उत्तीर्ण होने के पष्चात ही प्रशिक्षणार्थी को राष्ट्रीयराज्य व्यावसायिक प्रशिक्षण परिषद द्वारा प्रेषित प्रमाण पत्र नियत समयानुसार शासकीय प्रावधानों के अनुसार प्रदान किया जाता है।
  • दस दिन लगातार, बिना सूचना के अनुपस्थित  रहने पर प्रशिक्षणार्थी का नाम कक्षा से निलंबित कर दिया जावेगा।
  • प्रशिक्षण प्राप्त करते समय यदि स्वयं की गलती से प्रशिक्षणार्थी को चोट अथवा हानि पहुँचती है तो वह उसकी स्वयं की जिम्मेदारी होगी।
  • प्रशिक्षण अवधि में नियमानुसार एक व्यवसाय से दूसरे व्यवसार में स्थानान्तरण संभव नहीं होता। अपितु कुशल प्रशिक्षण हेतु उचित मार्गदर्शन दिया जाता है।

आयु सीमा / Age Limit

उम्मीदवार की आयु, 1 अगस्त को 14 वर्ष से अधिक व 40 वर्ष से कम होना चाहिए। महिला उम्मीदवारों के लिए आयु सीमा में शासकीय नियमानुसार शिथिलता प्रदान की गयी है।



स्वास्थ्य / Medical

व्यवसायिक प्रशिक्षण प्राप्त करना श्रम एवं मेहनत का कार्य है, अत: उम्मीदवार मानसिक एवं शारीरिक रूप से स्वस्थ होना अनिवार्य है। संस्थान में प्राथमिक उपचार की व्यवस्था अलग से की  गई है।

प्रवेश के पश्चात समय-समय पर संस्थानकेन्द्र के चिकित्सक द्वारा, आवश्यक रूप से चिकित्सीय परीक्षण किया जाता है। शारीरिक रूप से कमजोर अथवा मानसिक रोगी पाये जाने पर संस्थानकेन्द्र से निष्कासन की प्रक्रिया अपनायी जावेगी।



छात्रवृत्तिछूट / Scolorship

यदि दो या दो से अधिक भाई - बहिन इस औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानकेन्द्र में एक ही सत्र में अध्ययन करते हैं तो उनमें से बड़े को प्रायोगिक शुल्क में संस्थानकेन्द्र संचालन समिति द्वारा निर्धारित प्रक्रिया के अंतर्गत छूट दी जावेगी।